Follow by Email

05 December, 2013

आया गाँधी एक, जियो नेल्सन मंडेला-



डेला गोरों के बंधा, रहा मरकहा जीव । 
कालों को मारा किया, दुःख दुर्दशा अतीव । 

दुःख दुर्दशा अतीव, नींव के अनगढ़ पत्थर ।
चोट खाय के मनुज, बैठ जाते थे थककर ।

दिला दिया सम्मान, हिलाया देश अकेला । 
आया गाँधी एक, जियो नेल्सन मंडेला ॥ 

2 comments:

  1. श्रृद्धान्‍जलि।

    ReplyDelete
  2. आपके साथ हमारी भी मंडेला जी को सादर श्रध्दांजली । हम गत वर्ष ही साउथ अफ्रीका गये ते तब सब देखा था।

    ReplyDelete