Follow by Email

02 January, 2014

आज केजरीवाल, भरे शीला घर पानी

पानी मुफ्त पिलाइये, बिजली आधे दाम । 
आम आदमी खुश हुआ, मुँह में लगी हराम । 

मुँह में लगी हराम, आप तो नित जुगाड़ में । 
चाहे फिर कश्मीर, देश भी जाय भाड़ में। 

मुफ्त मुफ्त की लूट, हुई जनता दीवानी । 
आज केजरीवाल, भरे शीला घर पानी ॥ 


8 comments:

  1. मुफ्त मुफ्त की लूट, हुई जनता दीवानी ।
    आज केजरीवाल, भरे शीला घर पानी ॥

    राज केजरीवाल भरे शीला अब पानी .

    ReplyDelete
  2. शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  3. अच्छा कटाक्ष....बहुत खूब...
    नयी रचना
    "एक नज़रिया"
    आभार

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (4-1-2014) "क्यों मौन मानवता" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1482 पर होगी.
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है.
    सादर...!

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन कटाक्ष
    आभार

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर----
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाऐं----

    ReplyDelete