Follow by Email

03 June, 2014

बैठा जाए दिल मुआ, कैसे बैठा जाय-

बैठा जाए दिल मुआ, कैसे बैठा जाय |
उठो चलो आगे बढ़ो, रविकर करो उपाय |

रविकर करो उपाय, निराशा नित गहराई |
राई बने पहाड़, रुकावट जब तब आई |

उद्यम करता सिद्ध, बिगड़ते काम बनाये |
धरे हाथ पर हाथ, नहीं अब बैठा जाये ||

9 comments:

  1. खड़े होना ... कार्य की और अग्रसर होना ही उपाय है ...
    अच्छी कुंडली ...

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया।

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  4. उद्यम करता सिध्द सही कहा रविकर जी।

    ReplyDelete
  5. सार्थक सौद्देश्य सन्देश देती कुण्डलनी ,शुक्रिया आपकी टिप्पणियों का ,आपके होने और दिखने का चर्चा मंच पे नै साजसज्जा संग।

    ReplyDelete
  6. बहुत उपयोगी संदेश दे रही हैं ये पंक्तियाँ !

    ReplyDelete
  7. दोहे लिखने की प्रथा लगबहग खत्म ही हो चुकी है, लेकिंन आप अब भी उसको आगे बढ़ा रहे हैं और सब के लिए प्रेरणा स्त्रोत हैं.

    ReplyDelete
  8. अति सुन्दर ..

    ReplyDelete
  9. बहुत दिनों के बाद कुण्डलियाँ का आनन्द मिला !

    ReplyDelete