Follow by Email

22 September, 2014

बिला वजह लेता बुला, बला बिलावल पूत -

बिला वजह लेता बुला, बला बिलावल पूत । 
दुस्साहस देगी सुला, यह भारत मजबूत । 

यह भारत मजबूत, दूध की खातिर रोना । 
भिजवा देंगे खीर, चार छ: लाख भगोना । 

चाहोगे कश्मीर, लुटेगा तिरा काफिला । 
देंगे तुझको चीर, नानियां मरें बिलबिला ॥ 

7 comments:

  1. सुन्दर है दोस्त .

    ReplyDelete
  2. खुबसुरत रचना :)

    "एक भटकती आत्मा है हिटलर की जो कभी अरविन्द केजरीवाल, इमरान खान तो खभी बिलावल भुट्टो में घुस कर सबको परेशान करती रहती है." - बाबा रणछोड़ तांत्रिक (तंज़)

    :) :) :) :D

    पधारिये और अच्छा लगे तो ज्वाइन भी करें Rohitas Ghorela: पासबां-ए-जिन्दगी: हिन्दी

    ReplyDelete
  3. सुन्दर सार्थक चिंतन .

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर भावपूर्ण कुण्डलिया !
    चाहोगे कश्मीर, लुटेगा तिरा काफिला ।
    देंगे तुझको चीर, नानियां मरें बिलबिला ॥

    ReplyDelete