Follow by Email

19 January, 2015

इन्तजार दे छोड़, लगो अब इंतजाम में-

नहीं शाम में देर है, फिर भी करे बवाल ।
काल-रात्रि सिर पर खड़ी, करती खड़े सवाल।   

करती खड़े सवाल, होय हरबार सवेरा।
लगा रहा रे जीव, युगों से जग का फेरा ।

इन्तजार दे छोड़, लगो अब इंतजाम में ।
होगा काम-तमाम, देर अब नहीं शाम में ।।

(2)
समय प्रबंधन चाहता, जीतो कहे भविष्य |
करो कमाई धन कहे, देखो सुन्दर दृश्य |
देखो सुन्दर दृश्य, कैलेंडर कहे पलटिये |
लेकिन कहते कृष्ण, रात दिन जम के खटिये |
रविकर कर विश्वास, देखिये दुनिया प्रभुमय |
जाय जिंदगी जीत, होय न विस्मय असमय ||

7 comments:

  1. बहुत सुंदर और सार्थक रचना...

    ReplyDelete
  2. नहीं शाम में देर है, फिर भी करे बवाल..... waah


    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  4. दिन तो बीत गया जीवन का,
    शाम ढले फिर रात पिया रे..........

    ReplyDelete