Follow by Email

10 November, 2016

भागा भ्रष्टाचार, पास अच्छे दिन फटके-


टके टके पर टकटकी, खटके नोट हजार।
बेखटके निर्धन डटे, खाय अमीरी खार।
खाय अमीरी खार, बुखारी बदन गरम है।
थमता नक्सलवाद, हुआ आतंक नरम है।
भागा भ्रष्टाचार, पास अच्छे दिन फटके।
लटके झटके देख, सुधरते जायें भटके ।।

1 comment: