Follow by Email

17 July, 2011

था जीवन आधार, यही बाबा का गौधन ||

जो गुहाल के हाल पर, गैया  करे  सवाल |
मुर्ग-मछलियाँ पालता,  देता उसे हकाल ||

देता उसे  हकाल,  लगाईं कितनी सुइयां,
सारा  दूध  निचोड़,   ढकोरे  ढेरे  गोइयां  |

रविकर हड्डी-तोड़, बिगाड़े उसका जीवन |
था जीवन  आधार,  यही बाबा का गौधन ||

जनता पूछे देश में, कितने महिने और |

7 comments:

  1. रविकर हड्डी-तोड़, बिगाड़े उसका जीवन |
    था जीवन आधार, यही बाबा का गौधन
    कुछ शब्द समझ न आने के कारन अभी कुछ कह न पाऊंगी रवि जी कृपया-गुहाल ,हकाल,व् ढकोरे के अर्थ बताने का कष्ट करें

    ReplyDelete
  2. गुहाल = गाय के बाँधने का स्थान , गौशाला

    हकाल = तिरस्कृत कर भगाना ,

    ढकोर = जरुरत से भी अधिक खाना या पीना ||

    गोइयाँ = दोस्त

    आभार शालिनी जी ||

    ReplyDelete
  3. गुप्ता जी आप ने गौधन के बारे में एक दम सही बात कही है| लगा लगा कर सुई चौपायों की बेंड बजा दी है लोगों ने| काश आपकी पोस्ट से कुछ सबक लें|

    ReplyDelete
  4. शोषण के रूप में अच्छी टिपण्णी

    ReplyDelete
  5. keya sundar rachanakaar hai aap

    ReplyDelete
  6. सार्थक लेखन हेतु बधाई

    ReplyDelete
  7. शब्दों के अर्थ बताने हेतु आभार.
    गागर में सागर भर आप हर पोस्ट के माध्यम से बहुत सटीक बातें कह रहे हैं.बधाई.

    ReplyDelete