Follow by Email

06 September, 2011

विकीलीक्स पगलाया है


                    (घनाक्षरी)

ब्यूटी पार्लर जाय के, जन्मदिन मनाय के
अरबों गिफ्ट पाय के, मन हरसाया है |

सर्वजन कहाय के, गाँव-गाँव लडाय के
बहुजन डराय  के, राज-काज पाया है |

रसोइयाँ पटाय के, जूती जेट से लाय के,
मूरत लगवाय के, पार्क बनवाया है |

विकीलीक्स बताय के, मिसिर का उकसाय के,
पी एम् बरगलाय के, पूरा  पगलाया  है ||

12 comments:

  1. खुद को बहके के जनता को ललचाय के,
    दलित राग गाये के,सत्ता सुख पाया है.
    बहुत सही प्रस्तुति रविकर जी

    ReplyDelete
  2. सोइयाँ पटाय के, जूती जेट से लाय के,
    मूरत लगवाय के, पार्क बनवाया है |

    सही कटाक्ष ..

    ReplyDelete
  3. Main to aachar sahinta se bandha hu
    isliye kuch nahi kahunga.
    Aapko khud hi samajhana hoga.
    Post ki b..a..d..h..a..a..i..

    ReplyDelete
  4. बहुत सटीक कटाक्ष ।

    ReplyDelete
  5. ताली रोकने का मन नहीं कर रहा...

    क्या लिखा है आपने....क्या कहूँ....

    बस लाजवाब...लाजवाब...लाजवाब...

    सबकुछ इतने में ही समेट दिया आपने...

    इस धारदार रचना के लिए आभार स्वीकारें...

    ReplyDelete
  6. आपको 'सर्वजन' नहि सुहाया है,यहि बरे बहुतै लतियाया है !

    ReplyDelete
  7. सच बोलने, बताने वाले को तो ऐसा ही कहा जाता है।

    ReplyDelete
  8. माया की माया माया ही जाने ...

    ReplyDelete
  9. रविकर जी
    ....क्या लिखते हैं आप...धारदार रचना!

    ReplyDelete