Follow by Email

14 September, 2011

जीते भी इत हार


India won 
हार-हार के मैच नौ,  बटुरे  साठ  करोड़ |
भारत में है ही नहीं, क्रिकेट का कुछ तोड़ ||

क्रिकेट का कुछ तोड़, अजी जीते या हारें |
पाए कई करोड़, यहाँ  घायल भी प्यारे |

एशिया कप की जय, पाते पच्चीस हजार,
हारे  उसकी  जीत,  कप जीते  भी  इत हार ||


घायल सिंह युवराज भी,  बैठे  खाय  करोड़ |
वाल्मीकि  युवराज का,  देती  है  दिल तोड़ |

देती  है  दिल  तोड़,  एशिया-हाकी   जीता |
कुल पच्चीस हजार, लाल का शाही फीता |

खेल संघ धिक्कार, होय संघों का ट्रायल |
जूते-जूत निकाल, होय अधिकारी घायल ||   




13 comments:

  1. ये किक्रिट है बाबू, ईया पिसा कमाया जात न,
    वैसे सच में ये पैसे कमाने का ही खेल रह गया है।

    ReplyDelete
  2. खेल संघ धिक्कार, होय संघों का ट्रायल |
    जूते-जूत निकाल, होय अधिकारी घायल ||
    ऐसा ही होना चाहिये।

    ReplyDelete
  3. नए अंदाज में सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
  4. लाजवाब अंदाज़ ....

    ReplyDelete
  5. बहुत सटीक प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  6. S.M.Habeeb ji
    samayanukool bahut sundar rachna,badhai
    मेरी १०० वीं पोस्ट , पर आप सादर आमंत्रित हैं

    **************

    ब्लॉग पर यह मेरी १००वीं प्रविष्टि है / अच्छा या बुरा , पहला शतक ! आपकी टिप्पणियों ने मेरा लगातार मार्गदर्शन तथा उत्साहवर्धन किया है /अपनी अब तक की " काव्य यात्रा " पर आपसे बेबाक प्रतिक्रिया की अपेक्षा करता हूँ / यदि मेरे प्रयास में कोई त्रुटियाँ हैं,तो उनसे भी अवश्य अवगत कराएं , आपका हर फैसला शिरोधार्य होगा . साभार - एस . एन . शुक्ल

    ReplyDelete
  7. लाजवाब अंदाज़ .... विचारोत्तेजक कविता प्रस्तुत करने का आभार

    ReplyDelete
  8. सही और सटीक बातें लिखी है आपने ...

    ReplyDelete
  9. सच्ची बात कहती कविता । पैसा तो किरकेट मा ही है ।

    ReplyDelete
  10. behtareen "VYANG". very beautifully you write..

    ReplyDelete
  11. देती है दिल तोड़, एशिया-हाकी जीता |
    कुल पच्चीस हजार, लाल का शाही फीता |
    ...........सटीक सच्ची बात

    ReplyDelete