Follow by Email

16 September, 2011

बन गया इन्जीनियर, पुत्र फ़ारेन जा बसा,

मां, मातृभाषा और मातृभूमि posted by मनोज कुमार विचार से प्रभावित रचना || 

बारी  अभी   आई   नहीं,  खेत  पानी  में  पटे ||
लेट-गाडी  तीन घंटे, किन्तु क्यू  में हम  डटे  ||
( लग गए लाइन में --जाने वालों की )





असफल हुआ दो मर्तवा, इंजीनियरिंग इंट्रेंस  में,
बाप का अरमान बेटा, पाठ  'कोटा'  में   रटे ||
( कोटा बेस्ट कोचिंग सेंटर )

http://upload.wikimedia.org/wikipedia/commons/f/fc/Tarom.b737-700.yr-bgg.arp.jpg 

बन  गया  इन्जीनियर, पुत्र  फ़ारेन जा बसा,
पैरेंट्स की असमर्थता,  वक्त  काटे न  कटे |
(इकलौता बेटा )



आज के नव दौर में, चल पड़ी फिर सोच ऐसी 
बस जरूरत भर पढ़ा, तन्हा कलेजा क्यूँ फटे |
(अधिक पढाया तो दूर हो जायेगा )

 

 

 

 चाचा-बुआ-दादा पडोसी, और भी रिश्ते भुला , 

ज्ञान अर्जित कर लिया तो लिस्ट क्यूँ कैसे घटे ?

( लिस्ट में कुछ रिश्ते और जुड़ गए )

Sweating Over an Exam 
रिजल्ट  हो  बढ़िया  हमेशा,  चाहते  थे  आप  जो -
हर  समय  बोला   किये  कि  सब  रिलेटिव   हैं  लटे || 
( सभी रिश्तों को बुरा बताया गया )

बचपना   पूरा   गया,  रिश्ते   भुलाने   में गुजर --
भूलने  का  पा  मजा, तो  व्यर्थ  में  अब  क्यूँ  सटे ||
(जिम्मेदारियां क्यूँ उठायें )


Preview

बाप - बूढ़े  मातु - अक्षम, चल - बसे  वृद्धाश्रमा,
गोकि घर आश्रम बने, रविकर लगे क्यूँ अट-पटे ?? 
(जैसी करनी वैसी भरनी )






12 comments:

  1. यही होता है ...सटीक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. कैरियर के नाम पर कर्तव्य से विमुख परम्परा पर करारा प्रहार.

    ReplyDelete
  3. नया ज़माना है साहेब.

    ReplyDelete
  4. रविकर जी बेहद मार्मिक हमारे समय की आम व्यथा को रूपायित करती रचना .

    ReplyDelete
  5. रविकर जी ,बहुत ही सुन्दर लिखा है आपने ,
    .........धन्यवाद् .....

    ReplyDelete
  6. भारतीय परम्परा के अवमूल्यन जैसे ज़रूरी विषय पर आपका लेखन सार्थक है......आभार.

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब रविकर भाई।

    ReplyDelete
  8. भटके हुए हिन्दुस्तान की तस्वीर है इन पंक्तियों में।

    ReplyDelete