Follow by Email

12 January, 2012

मचा बवंडर पाक में

मचा  बवंडर  पाक  में, रही दुर्दशा झाँक |
आधे जन जेहाद में, धूल अर्ध-जन फाँक |
धूल अर्ध-जन फाँक, बिगड़ते जाते हालत |
होय मिलिट्री रूल,  दीखती ऐसी नौबत |
Asif Ali zardari

जरदारी फिर भाग, आग से दुबई डरकर |
जनता अब तो जाग, थाम तू मचा बवंडर ||

संशोधन:
शादी में बाहर गए, आये बुद्धू आप |
लेकिन कुछ शातिर बड़े, लेते गर्दन नाप ||

18 comments:

  1. पाकिस्तान में तो सचमुच बड़ी अशांति फैली हुई है ..

    ReplyDelete
  2. क्या खूब कहा है ,वाह...!

    ReplyDelete
  3. wah!sir pak ki sthiti par satik prastuti

    ReplyDelete
  4. सार्थक व सटीक लिखा है आपने ...आभार ।

    ReplyDelete
  5. शानदार , खूब पहचाना आपने पाक को |

    ReplyDelete
  6. एक-एक लाइन कई-कई पैरों पर भारी।

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब कहा है !

    ReplyDelete
  8. सत्य और सटीक अच्छी लगी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  9. आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली (२६) मैं शामिल की गई है /आप मंच पर आइये और अपने अनमोल सन्देश देकर हमारा उत्साह बढाइये /आप हिंदी की सेवा इसी मेहनत और लगन से करते रहें यही कामना है /आभार /लिंक है
    http://www.hbfint.blogspot.com/2012/01/26-dargah-shaikh-saleem-chishti.html

    ReplyDelete
  10. हालातों का सटीक चित्रण...

    ReplyDelete
  11. Vaah Dinesh ji ... paakistaan ko bhi lapet liya aapne .... majedaar hain sabhi dohe ...

    ReplyDelete