Follow by Email

03 April, 2012

चूमा-चाटी कर रहे, उत्सव में पगलान

बैशाख और मेघा / माघ
मेघा को ताका करे, नाश-पिटा बैसाख ।
करे भांगड़ा तर-बतर, दुष्ट मारता आँख ।
दुष्ट मारता आँख, मुटाता जाय दुबारा ।
किन्तु सुवन-वैशाख, नहीं मेघा को प्यारा ।
मेघा ठेंग दिखाय, कहे मत मुझको ताको ।
बार बार वैशाख, किन्तु छेड़े मेघा को ।।

चित्रा (चैत्र)
चित्रा के चर्चा चले, घर-आँगन मन हाट ।
ज्वार जवानी जिंदगी, रही पसीना चाट ।
रही पसीना चाट, चूड़ियाँ साड़ी कंगन ।
जोह रही है बाट, खाट पर पसरी बनठन।
फगुनाहटी सुरूर, मिटाता बलमा आके ।
पोर-पोर में दर्द, रात-दिन हो चित्रा के ।।

आश्विन और कार्तिक
चूमा-चाटी कर रहे, उत्सव में पगलान ।
डेटिंग-बोटिंग में पड़े, रेस्टोरेंट- बगान ।
रेस्टोरेंट- बगान, निभाएं कसमे-वादे ।
पूजा का माहौल, प्रेम-रस भक्ति मिला दे ।
नव-दुर्गा आगमन, दिवाली जोड़ा घूमा ।
पा लक्ष्मी वरदान, ख़ुशी से माथा चूमा ।।

2 comments:

  1. वाह बहुत उपयोगी प्रस्तुति!
    अब शायद 3-4 दिन किसी भी ब्लॉग पर आना न हो पाये!
    उत्तराखण्ड सरकार में दायित्व पाने के लिए भाग-दौड़ में लगा हूँ!
    बृहस्पतिवार-शुक्रवार को दिल्ली में ही रहूँगा!

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया रविकर जी. आप पर सरस्वती देवी की असीम कृपा है.

    आभार आपका.

    ...और हाँ,शास्त्रीजी को मत परेशान करना,वो अपनी जुगाड़ में लगे हैं !

    ReplyDelete