Follow by Email

05 September, 2012

लो दीदी राजेश, बधाई देता रविकर -


ज्योतिपर्व पर दिख रहे,  हव्य हृदय उदगार ।
प्रथम काव्य संग्रह दरस, हर्षित हिंद अपार ।
हर्षित हिंद अपार, स्वागतम साधुवाद है ।
सफल विमोचन होय, सितम्बर आठ याद है ।
खंडूरी का स्नेह, समय आया है सुन्दर ।
लो दीदी राजेश,  बधाई देता रविकर ।।

12 comments:

  1. दिनेश रविकर भैया आपका अपास स्नेह और शुभकामनाएं प्राप्त हुई और क्या चाहिए हार्दिक आभार

    ReplyDelete
  2. राजेश दी को बधाई और शुभकामनाएँ !!

    ReplyDelete
  3. उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  4. बहुत-बहुत बधाई सहित शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  5. बधाई रविकर भाई ,बधाई कुमारी राजेश जी ......
    नारी शक्ति :भर लो झोली सम्पूरण से
    नारी शक्ति :भर लो झोली सम्पूरण से

    आधी दुनिया के लिए सम्पूरण -पूरी तरह स्वस्थ रहे आधी दुनिया इसके लिए ज़रूरी है देहयष्टि की बस थोड़ी ज्यादा निगरानी ,रखरखाव की ओर थोड़ा सा ध्यान और .बस पुष्टिकर तत्वों को नजर अंदाज़ न करें .सुखी स्वस्थ परिवार के लिए इन खुराकी सम्पूरकों पर थोड़ा गौर कर लें:


    रविकर फैजाबादी
    चुस्त धुरी परिवार की, पर सब कुछ मत वार |
    देहयष्टि का ध्यान कर, सेहत घर-संसार |
    सेहत घर-संसार, स्वस्थ जब खुद न होगी |
    सन्तति पति घरबार, भला हों कहाँ निरोगी ?
    संरचना मजबूत, हाजमा ठीक राखिये |
    सक्रिय रहे दिमाग, पदारथ सकल चाखिये ||

    ReplyDelete
  6. बधाई,
    शुभकामनाएं
    जो कहें,
    हम भी आ जाएं!

    ReplyDelete
  7. राजेश जी और ज्योतिपर्व प्रकाशन को ढेर सारी बधाइयाँ ....

    ReplyDelete
  8. रविकर ही नहीं हमको भी सरोकार है
    आने वाला सामने एक उपहार है
    मोतियाँ छाँट कर लाया है ज्योति पर्व
    माला गीतों की बनने को तैयार है !

    ReplyDelete
  9. पुस्तक प्रकाशन की हार्दिक बधाई................

    ReplyDelete
  10. आपके काव्यात्मक छंद अच्छे लगते हैं.आपकी किताब कब छपेगी.

    ReplyDelete