Follow by Email

11 September, 2013

साथ सुता के सो ले बाबा-


अंध-भक्ति श्रद्धा जब बाढ़ी ।
झोंके लोग कमाई गाढ़ी । 
पर डूबे सागर में *पाढ़ी ।
काली दाढ़ी उजली दाढ़ी -
विष जीवन में घोले बाबा ।  भोले बाबा भोले बाबा ॥

पढ़े लिखे लोगों की मर्जी ।
शायद हों बाबा के करजी ।
संत कृपा की खातिर अर्जी ।
ना जाने कैसी खुदगर्जी ।
साथ सुता के सो ले बाबा । भोले बाबा भोले बाबा ॥

धूर्त बाल की खाल निकाले ।
हर ढपली पर रोले गाले ।
चले हमेशा बेढब चालें ।
खतरनाक मंसूबे पाले -
जहर जहाँ में घोले बाबा ।  भोले बाबा भोले बाबा ॥

मैल हाथ की सूखी धोले ।
तोले-तोले रख के तोले ।
जले कलेजा पड़े फफोले ।
हर रिश्ते को तोले-मोले ।

नहीं किसी का हो ले बाबा । भोले बाबा भोले बाबा ॥
*छोटी नाव 

गई शक्ति-मिल दुष्ट क्लीव को -

  •  नहा खून से हर हर गंगे |
  • बहा खून ले, दर दर दंगे |
  • भंग व्यवस्था लंगु प्रशासन 
  • सड़कों पर दुर्दांत लफंगे । 

  • जब मारक आघात करें | बोलो किसकी बात करें ॥ 

  • जहाँ प्रवंचक प्रवचन करते । 
  • श्रोता मकु तरते ना तरते । 
  • लम्बी चौड़ी हांक हांक के 
  • दारुण दुःख हरते ना हरते -

  • हरते सिया बलात धरें । बोलो किसकी बात करें ॥ 

  • करें दिल्लगी दिल्ली वाले । 
  • उजला देह कलेजा काले । 
  • इक थैली के चट्टे  बट्टे -
  • करके वादे काम निकाले -

  • असहनीय हालात करें । बोलो किसकी बात करें ॥ 

  • नहीं डराती जेल-सलाखें 
  • कन्याओं को घूरें आँखें । 
  • गई शक्ति-मिल दुष्ट क्लीव को 
  • चाहे जितना चीखें चाखें -

  • मनचाहा उत्पात करें । बोलो किसकी बात करें ॥ 

10 comments:

  1. धूर्त लोगों की भरमार हो गई है ....बहुत अच्छी प्रस्तुति ....

    ReplyDelete
  2. क्‍या बात है। क्‍या बात है।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - शुक्रवार - 13/09/2013 को
    आज मुझसे मिल गले इंसानियत रोने लगी - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः17 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra





    ReplyDelete
  4. पढ़े लिखे लोगों की मर्जी ।
    शायद हों बाबा के करजी ।
    संत कृपा की खातिर अर्जी ।
    ना जाने कैसी खुदगर्जी ।
    साथ सुता के सो ले बाबा । भोले बाबा भोले बाबा ॥

    इसमें भी कुछ प्रभु की मर्जी ,

    तमो गुणों को धो ले बाबा ,

    तेरी करनी बोले बाबा

    धूर्तों के सरदार ये बाबा ,

    मत कहो इनको भोले बाबा .

    ReplyDelete
  5. सटीक और यथार्थ को कहती रचनाएँ

    ReplyDelete