Follow by Email

31 July, 2014

भीष्म कर्ण गुरु द्रोण, युद्ध तो किये जा रहे -

रहे मौन धर्मज्ञ जब, देख पाप-दुष्कर्म |
बिना महाभारत छिड़े, कहाँ सुरक्षित धर्म |

कहाँ सुरक्षित धर्म, रखें गिरवी जब तन मन  |
दुर्जन करे कुकर्म,  सताए हरदिन जन गण ।

कह रविकर कविराय, कृष्ण अब कहाँ आ रहे । 
भीष्म कर्ण गुरु द्रोण, युद्ध तो किये जा रहे ॥ 

10 comments:

  1. सही कहा कृष्‍ण की प्रतीक्षा है।

    ReplyDelete
  2. सच कहा आपने ....

    ReplyDelete
  3. महाभारत को आज के परिप्रेक्ष्य में ले आये, वाह।

    ReplyDelete
  4. आपका ब्लॉग देखकर अच्छा लगा. अंतरजाल पर हिंदी समृधि के लिए किया जा रहा आपका प्रयास सराहनीय है. कृपया अपने ब्लॉग को “ब्लॉगप्रहरी:एग्रीगेटर व हिंदी सोशल नेटवर्क” से जोड़ कर अधिक से अधिक पाठकों तक पहुचाएं. ब्लॉगप्रहरी भारत का सबसे आधुनिक और सम्पूर्ण ब्लॉग मंच है. ब्लॉगप्रहरी ब्लॉग डायरेक्टरी, माइक्रो ब्लॉग, सोशल नेटवर्क, ब्लॉग रैंकिंग, एग्रीगेटर और ब्लॉग से आमदनी की सुविधाओं के साथ एक सम्पूर्ण मंच प्रदान करता है.
    अपने ब्लॉग को ब्लॉगप्रहरी से जोड़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें http://www.blogprahari.com/add-your-blog अथवा पंजीयन करें http://www.blogprahari.com/signup .
    अतार्जाल पर हिंदी को समृद्ध और सशक्त बनाने की हमारी प्रतिबद्धता आपके सहयोग के बिना पूरी नहीं हो सकती.
    मोडरेटर
    ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क

    ReplyDelete
  5. वाह !! मंगलकामनाएं आपको !

    ReplyDelete
  6. कृष्ण के आने तक हमें ही बनना होगा कृष्ण। सुदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर है .

    ReplyDelete
  8. रहे मौन धर्मज्ञ जब, देख पाप-दुष्कर्म |
    बिना महाभारत छिड़े, कहाँ सुरक्षित धर्म |
    sacchi bat ....

    ReplyDelete
  9. बहुत अच्छी कुण्डलियाँ !
    रहे मौन धर्मज्ञ जब, देख पाप-दुष्कर्म |
    बिना महाभारत छिड़े, कहाँ सुरक्षित धर्म |

    ReplyDelete