Follow by Email

12 October, 2014

बाल-कविता; कहते मित्र किताबी-कीड़ा

पहले तो आती थी आया । 
कितना बोझिल समय बिताया ।। 

रहता हूँ मैं आज अकेला |
लैप-टॉप पे खेलूं  खेला |। 

सब-वे-सफरर फ्रूट कटर है |
हिल क्लाइम्बिंग पे जिगर निडर है |

पिज्जा बर्गर हरदम खाऊँ  |
धक्का-मुक्की सह न पाऊँ  |

मित्र खेलते रोज कबड्डी |
किन्तु चटकती मेरी हड्डी ॥ 

कहते मित्र किताबी-कीड़ा |
ताने मारें देते पीड़ा |

चाहूँ मैं भी बाहर जाना । 
पापा करते किन्तु बहाना । 

मम्मी पापा जब भी आते  |
गिफ्ट थमाते मन बहलाते ॥  |

मन मसोस कर मैं रह जाता |
तमसो ज्योतिर्गमय चिढ़ाता ||





10 comments:

  1. आपकी लिखी रचना मंगलवार 14 अक्टूबर 2014 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. वाह बहुत खूब बालमन की रचना
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    सादर

    ReplyDelete
  3. मन मसोस कर मैं रह जाता |
    तमसो ज्योतिर्गमय चिढ़ाता ||

    वाह।

    ReplyDelete
  4. व्यंग्य विनोद और बच्चों का अकेलापन सभी मुखरित हैं इस अर्थ गर्भित रचना में .

    ReplyDelete
  5. सुंदर एवं संदेशप्रद बाल कविता ... आभार।

    ReplyDelete
  6. बाल मन में हो रहे हलचल को आपने बहुत दुन्दर शब्दरूप दिया !
    खुदा है कहाँ ?
    कार्ला की गुफाएं और अशोक स्तम्भ

    ReplyDelete
  7. आज के अधिकतर बच्चों की दास्ताँ लिख दी ...
    अच्छा व्यंग ....

    ReplyDelete
  8. यही हो रहा है बच्चों के साथ - और लोग अपने-अपने में मगन हैं ,आपने सच कह दिया !

    ReplyDelete