09 February, 2015

स्वतंत्र दोहे


सच्चा सौदागर बिका, सच्चा सौदा नाय ।
इस झूठे बाजार में, झूठा माल बिकाय॥

भाँय भाँय करता भवन, किन्तु भाय ना भाय ।
जब लुभाय ससुरारि तब, माँ भी धक्का खाय ॥

गैरों ने काटा गला, झटपट काम-तमाम । 
अपने तो रेता किये, लिए एक ही काम ॥ 

खोटे सिक्के चल रहे, गजब तेज रफ़्तार |
गया जमाना यूँ बदल, इक्के भी बेकार || 

जाति ना पूछो साधु की, कहते राजा रंक |
मजहब भी पूछो नहीं, बढ़ने दो आतंक ||  

19 comments:

  1. भाँय भाँय करता भवन, किन्तु भाय ना भाय ।
    जब लुभाय ससुरारि तब, माँ भी धक्का खाय ॥
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  2. ज़बर्दस्त कटाक्ष है वर्त्तमान सामाजिक अवस्था पर!!

    ReplyDelete
  3. सार्थक दोहावली।
    आज देहरादून में हूँ। कल घर पहुँच जाऊँगा।

    ReplyDelete
  4. हाँ और ये भी मती पूछो रै तू आदमी है की जिनावर.....

    ReplyDelete
  5. बहुत सटीक दोहे...

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब सर जी।

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब सर जी।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
  9. जाति ना पूछो साधु की, कहते राजा रंक |
    मजहब भी पूछो नहीं, बढ़ने दो आतंक ||

    बहुत खूब !

    ReplyDelete
  10. आपको सपरिवार होली की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ .....!!
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete
  11. धन्यवाद, रविकर जी। आशा है भविष्य में भी आप मेरा मार्गदर्शन करते रहेंगे।शुभ रात्रि।

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब कही रविकर भाई .मुबारक .

    ReplyDelete
  13. बहुत खूब कही रविकर भाई .मुबारक .

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर दोहे1

    ReplyDelete